गरीबों के आवास पर महंगाई की मार: प्रधानमंत्री आवास योजना पर मंहगाई की मार - News Adda India

Header Ads

गरीबों के आवास पर महंगाई की मार: प्रधानमंत्री आवास योजना पर मंहगाई की मार

गरीबों के आवास पर महंगाई की मार: प्रधानमंत्री आवास योजना पर मंहगाई की मार


जितने पैसे मिल रहे हैं उतने में अब संभव नहीं आवास


सीसी छत की जगह डाली जा रही है टीन शेड


CM शिवराज को भी है इसकी भनक, कर चुके है फ्री रेत देने की घोषणा




कपिल मिश्रा, शिवपुरी।। देश इस समय मंहगाई के दौर से गुजर रहा है डीजल, पेट्रोल से लेकर हर चीज महंगी हो चुकी है। महंगाई का असर अब प्रधानमंत्री आवास योजना जैसी महत्वकांक्षी योजना पर भी देखा जा सकता है, क्यों कि घर बनाने के लिए उपयोगी रेत से लेकर सरिया, सीमेंट सब की कीमतों इज़ाफ़ा हो चुका हैं। जिसके चलते अब जो राशि प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत ग्रामीण अंचल में हितग्राहियों को दी जा रही वह उस राशि के पैसों से घर बनाने में असमर्थ है। लगभग सभी ग्रामीण अंचल में एक जैसा माहौल है जिसमें हितग्राहियों के खाते में दो क़िस्त पहुँच गई परन्तु अब तक उसके पिलर तक सही से खड़े नहीं हो सके, तो कुछ की तीन क़िस्त मिल चुकी हैं परन्तु मिली राशि से वह छत नहीं डाल सका और अब छत की जगह टीन-शेड डालकर गुजारा कर रहा हैं।

बढ़ती मंहगाई का असर किस प्रकार से प्रधानमंत्री आवास योजना पर पढ़ रहा है इसकी जमीनी हकीकत जानने के लिए हमारी टीम शिवपुरी जनपद के ग्राम पंचायत कुअंरपुर पहुँची। जहां ग्रामीणों को मिले आवासों को देखा तो कई आवास अधूरे पड़े थे, कईयों ने सिर छुपाने के लिए छत पर टीन शेड डालकर रहने को मजबूर हैं और कुछ के आवास की राशि ठेकेदारों ने डकार ली।


राशि पूरी निकली, नहीं डलवा पाया पूरन आदिवासी छत -


ग्राम कुअंरपुर में जब हमने पुरन आदिवासी को मिले प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत आवास का मुआयना किया तो आवास में किचिन के नाम की सीसी की टेबलनुमा बनी थी। छत पर टीन शेड की चद्दर लटकी हुई थी। जब हमने इसके बारे में पूरन आदिवासी से पूछा, तो पूरन ने बताया कि उसे अब तक तीन किस्तों में 1 लाख 20 हजार रुपये की राशि मिल चुकी है। जितनी भी राशि मिली सारा पैसा उसने आवास में ही लगा दिया परन्तु वह मिले पैसों से छत नहीं डाल पाया छत की जगह उंसे टीन शेड बिछानी पड़ी, क्यों कि जितने पैसे मिले थे वह खत्म हो चुके थे।


आवास योजना की दीवारों के बीच मिली झोपड़ी -


वहीं ग्राम कुअंरपुर में एक ऐसा प्रधानमंत्री आवास नजर आया जिसमें आवास की चारों दीवारों को खड़ा तो कर दिया था, वाकायदा गेट भी लगा दिया था। जब हमने गेट खोल कर इस आवास का हाल जाना तो दंग रह गए, यहां दीवारों के बीच एक छोटी झोपङी बनी हुई थी जिसमें हितग्राही रहने को मजबूर हैं। जब इसके बारे में पूछा तो हितग्राही की माँ माखन देवी ने बताया कि उन्हें आवास योजना में मिलने वाली तीनों किस्तों से 1 लाख 20 हजार रुपये मिल चुके है उन पैसों से महंगाई के चलते यह आवास इतना ही बन पाया हैं। इसी बजह से चार दीवारों के बीच कच्ची झोपड़ी बनाकर रहने को मजबूर हैं।


इसी तरह पुन्ना आदिवासी के बेटे की भी प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत कुटीर बन कर तैयार हो चुकी है परन्तु यहां भी छत सीसी की जगह टीन शेड (चद्दर) की डाली गई पुन्ना आदिवासी का कहना है कि महंगाई के दौर में आज सब कुछ महंगा है ऐसे समय में जितना पैसा मिला उसे लगा दिया। छत डालने के लिए पैसे नहीं बचे इसलिए छत पर टीन शेड डालनी पड़ी।


दो क़िस्त मिली पर खड़े भी न हो सके पिलर -


जब सरकार द्वारा चलाई जा रही योजना की बात हो और उसमें भ्रष्टाचार न दिखे बहुत ही कम देखने को मिलता हैं ऐसा ही एक आवास योजना का हितग्राही राकेश वाल्मीकि मिला, जिसका आवास का सपना अब सरकार की राशि से बनना संभव नहीं क्यों कि राकेश को अब तक दो किस्तों में 80 हजार रुपये मिल चुके हैं। परन्तु उसने यह पूरा पैसा आवास बनाने के लिए एक ठेकेदार को दे दिए। परन्तु ठेकेदार द्वारा आवास के पूरे पिलर भी खड़े नहीं किए। जिसके बाद अब राकेश वाल्मीकि परेशान हैं आगे मिलने वाली तीसरी क़िस्त के तौर पर जो 40 हजार रुपये उंसे मिलेंगे उससे वह अपने आवास को कैसे रहने लायक बना पायेगा।


सीएम शिवराज कर चुके हैं PM आवास योजना में मुफ्त रेत देने की घोषणा -


ऐसा नहीं कि आवास योजना पर पड़ने वाली महंगाई की मार से सरकार वाकिफ नहीं इसी के चलते अभी हाल ही में मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एक मंच से पीएमएवाई के लाभार्थियों को घर बनाने लिए मुफ्त रेत मुफ्त देने का ऐलान किया है। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने मंच से कहा था कि प्रदेश सरकार अपनी रेत नीति में संशोधन करेगी ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभार्थियों को लाभ मिल सके। परन्तु मुख्यमंत्री की यह घोषणा अब तक धरातल पर नहीं उतर सकी।


साहब को पता ही नहीं आवास योजना में डाली जा रही है सीसी छत की जगह टीन शेड -


जिला पंचायत CEO एच पी वर्मा से जब आवास योजना में मिलने वाली राशि की जानकारी ली तो उन्होंने बताया कि ग्रामीण अंचल में आवास योजना में हितग्राही को मिलने वाली राशि एक लाख बीस हजार रुपए हैं और इतने में आवास बन जाता है जब CEO जिला पंचायत को छत पर सीसी की जगह टीन शेड डाले जाने का पूछा तो उन्होंने कहा सभी आवासों में छत में सीसी डालने का प्रावधान है अगर कहीं छत पर टीन शेड डाली जा रही है तो निश्चित ही कार्यवाही की जाएगी। वहीं जिला पंचायत CEO ने फ्री रेत देने की बात पर कहा कि अभी उन्हें फ्री रेत देने का कोई पत्र सरकार से नहीं मिला है। 


वहारहाल ये तो निश्चित है महंगाई  की मार अब प्रधानमंत्री आवास योजना पर भी पड़ रही है। CM शिवराज को भी इसकी भनक है जिसके चलते चुनावी मुद्दों में फ्री रेत देनेका भी हवाला मंच से दिया जा चुका है। अब देखना होगा कि प्रधानमंत्री आवास योजना की कम राशि के आभाव में यह दुर्दशा में कोई सुधार आता है या फिर यूंही हितग्राही अपने आवास पर टीन शेड डालकर गुजारा करते रहेंगे।

No comments